35.1 C
New Delhi
June 22, 2021
kaalasach
Breaking News
रोजगार शहर

पढ़िये…..शहीद दिवस पर विशेष, 17 वर्ष बीत गये शहादत को पर नही मिल सका परिवार को कोई लाभ, सभी घोषणाएं हुई हवाई साबित।

काला सच ब्यूरो: देश के खातिर अपनी जान कुर्बान करने वाले शहीदों के परिवारों को सरकारें तमाम सुविधाओं का आश्वासन तो देती हैं लेकिन उनका यह आश्वासन चुनावी घोषणाओं की तरह हवाई साबित होता है।
ऐसा ही हुआ 17 वर्ष पूर्व शहीद हुए अंग्रेज सिंह के परिजनों के साथ। जिन्हें आज तक सरकारी घोषणाओं में से एक का भी लाभ नही मिल सका है।
दशकों बीतने के बाद भी इनका परिवार कोई सरकारी मदद न मिलने से दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर है। आज भी शहीदी दिवस पर तमाम नेता और मंत्री शहीद को श्रद्धांजलि देने इनके घर आते तो हैं पर परिवार को सरकारी मदद दिलाने का आश्वासन देकर चले जाते हैं और पलट कर कोई नही देखता।

आपको बता दें उत्तराखंड के ज़िला उधम सिंह नगर की तहसील बाजपुर क्षेत्र के ग्राम विजय रम्पुरा निवासी अंग्रेज सिंह वर्ष 2000 में भारतीय सेना में शामिल हुए थे जिनकी तैनाती जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में हुई थी। लेकिन 13 सितंबर 2003 को अचानक हुए आतंकी हमले में अंग्रेज सिंह ने आतंकियों से लोहा लेते हुए देश की रक्षा में अपनी जान कुर्बान कर दी। उनकी शहादत से उस वक़्त क्षेत्र में मातम फैल गया था जिसके चलते पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय नारायण दत्त तिवारी शहीद के परिवार से मिलने आए थे और उनके परिवार को तमाम सुविधाएं देने की घोषणा करके गए थे लेकिन एक घोषणा भी पूरी न हो सकी। उसके बाद भाजपा और कांग्रेस की अपनी-अपनी सरकारें आयीं, जिनके मुख्यमंत्रियों ने अपने-अपने स्तर से शहीद के परिवारों के लिये कई घोषणाएं कीं। जिसमें शहीद के परिवार को 10 एकड़ जमीन, परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी, शहीद अंग्रेज सिंह के नाम पर सड़क और स्मारक निर्माण आदि घोषणाएं शामिल थीं लेकिन आज भी यह घोषणाएं चुनावी वादों की तरह ही हवाई साबित हुई।

जहां इस शहीद की शहादत को 17 वर्ष बीत जाने के बाद भी इनके परिवार को एक भी सरकारी घोषणा का लाभ नहीं मिल पाया है। वहीं हर साल शहीदी दिवस पर इस शहीद के स्मारक पर कई मंत्री और नेता आते हैं और शहीद को नमन कर श्रद्धांजलि देकर चले जाते हैं। लेकिन इस दिन शहीद का भाई और उनका परिवार कोई सरकारी मदद न मिल पाने से आंसू बहाता ही नजर आता है जैसे इस दुनिया में उनकी सुनने वाला कोई है ही नही।

रविवार को शहीदी दिवस पर भी शहीद अंग्रेज सिंह की 17वीं पुण्यतिथि पर कैबिनेट मंत्री अरविंद पांडे सहित दर्जनों नेता उनके आवास पर पहुंचे और उनके चित्र के सम्मुख पुष्प अर्पित कर शहीद को श्रद्धांजलि दी। जिसके बाद कैबिनेट मंत्री अरविंद पांडे ने शहीद के परिवार से मुलाकात कर कहा कि सरकार हमेशा शहीद के परिवार के साथ है और उनका दुःख-दर्द अच्छी तरह समझती है। वहीं इससे पूर्व श्री पांडे ने शहीद अंग्रेज सिंह के नाम पर बनाई जाने वाली सड़क का शिलान्यास किया और बिना कुछ घोषणा किये वहां से चलते बने। जिससे एक बार फिर सरकारी मदद मिलने की आस में शहीद का परिवार आंसू बहाते रह गया।

Related posts

देखिये…..काशीपुर में किसान बिल का विरोध

kaalasach

पढ़िये…..कहाँ किया झोलाछाप डॉक्टरों ने लोगों की ज़िन्दगी से खिलवाड़, सड़क किनारे फेंकी खाली शीशियां और इंजेक्शन, स्वास्थ्य अधिकारियों की लापरवाही का आलम भी ग़ज़ब।

kaalasach

देखिये…… कहाँ हुआ नाबालिग छात्रा से गैंगरेप, सभी आरोपी भेजे गये जेल।

kaalasach

पढ़िये…..मोटर मैकेनिक का एक अनोखा टैलेंट, बिना डरे कैसे पकड़ लेता है ज़हरीले साँप, हज़ारों ज़हरीले साँपों को पकड़ कर जंगलों में छोड़ चुका है अब तक।

kaalasach

देखिये….. एक किसान का कुछ कर गुजरने का जज़्बा, अपने फार्म हाउस पर ही उगा लिया विदेशी फल, अन्य किसानों के लिए भी हो सकता है वरदान साबित।

kaalasach

देखिये…..काला सच विशेष, कोविड-19 स्पेशल। (खतरा अभी टला नही है लोग इसे हल्के में न लें।)

kaalasach

Leave a Comment