35.1 C
New Delhi
June 22, 2021
kaalasach
Breaking News
राजनीति लाइव

देखिये!…..जब एसडीएम ने कही धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर हटाने की बात! तो क्या हुआ…..?

स्थान – सितारगंज
रिपोर्ट – अनीस रजा

सितारगंज : उच्च न्यायालय के आदेश के चलते ध्वनि प्रदूषण पर रोक लगाने के उद्देश्य से मण्डी परिसर में क्षेत्र के सभी धर्मगुरुओं तथा जनप्रतिनिधियों को बुलाकर मीटिंग का आयोजन किया गया। जहाँ मौजूद सभी लोगों से उच्च न्यायालय के आदेशानुसार ध्वनि प्रदूषण पर रोक लगाने को कहा गया। वहीं आदेश का पालन न करने वालों पर प्रशासन द्वारा कार्यवाही करने की बात कही।

बता दें कि उच्च न्यायालय ने बढ़ते ध्वनि प्रदूषण को देखते हुए सभी जगहों पर ध्वनि संयंत्रों पर रोक लगाने के पूर्ण रूप से आदेश दिये हुए हैं। इसके बावजूद भी लोग अपने अपने धार्मिक स्थलों पर ध्वनि संयंत्रों का जमकर उपयोग कर रहे हैं। जिससे ध्वनि प्रदूषण बढ़ने के साथ ही उच्च न्यायालय के आदेश की भी अवहेलना हो रही है। जिसके चलते जनपद उधम सिंह नगर की सितारगंज तहसील के मंडी परिसर में उपजिलाधिकारी मुक्ता मिश्रा ने क्षेत्र के सभी धर्मगुरुओं और जनप्रतिनिधियों के साथ एक मीटिंग का आयोजन किया। जहां उपस्थित धर्म गुरुओं तथा जनप्रतिनिधियों को उच्च न्यायालय के ध्वनि प्रदूषण के सम्बंध में दिये गये आदेश की जानकारी दी गई। बैठक में बताया गया कि उच्च न्यायालय ने सभी धार्मिक स्थलों मंदिर, मस्जिद तथा गुरुद्वारे सहित अन्य सभी जगहों पर ध्वनि संयंत्र पर पूर्ण रूप से रोक लगाने के आदेश दिये हुए हैं। जिसके बाद भी कई लोग उच्च न्यायालय के आदेश का पालन नही कर रहे। इस दौरान सभी से अपील की गई कि वह उच्च न्यायालय के आदेश का पूर्ण रूप से पालन करें और अपने अपने धर्म स्थलों से लाउडस्पीकर तुरंत हटा लें। ऐसा न करने वालों के खिलाफ प्रशासन द्वारा कड़ी कार्यवाही अमल में लायी जायेगी। वहीं ऐसे लोगों को जेल भी हो सकती है और जुर्माना भी लगाया जा सकता है।

इस सम्बंध में उपजिलाधिकारी मुक्ता मिश्रा ने बताया कि 15 दिसंबर 2020 को जिलाधिकारी ने मीटिंग कर उच्च न्यायालय के आदेश का पालन करने के निर्देश दिए थे। जिसका पालन करवाने के लिए आज सितारगंज मंडी परिसर में बैठक कर धर्मगुरुओं और स्थानीय वरिष्ठ नागरिकों के साथ बैठक कर उन्हें जानकारी दी गई कि पूर्व में धार्मिक जगहों जैसे गुरद्वारा, मंदिर और मस्जिद आदि में लाउडस्पीकर लगाने पर प्रतिबंध लगाया गया था। जिसको कई लोग नहीं मान रहे हैं और कई मंदिर, मस्जिद और गुरुद्वारों में लाउडस्पीकर का इस्तेमाल किया जा रहा है। वहीं सभी से अपील ली गई कि वह अपने अपने धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर पूर्ण रूप से हटा लें। अन्यथा आदेश का पालन न करने वाले को 7 साल की कैद तथा एक लाख का जुर्माना हो सकता है। इसलिए उच्च अधिकारियों के निर्देशो को मानते हुए सभी लोग दिशा निर्देशों का पालन करें अथवा प्रशासन कार्यवाही करने को मजबूर हो जाएगा।

वहीं पुलिस क्षेत्राधिकारी सुधीर कुमार ने कहा कि ध्वनि प्रदूषण के सम्बंध में उच्च न्यायालय के आदेश को लेकर बैठक की गई है। जिसमें सभी धार्मिक स्थलों के धर्म गुरुओं तथा जनप्रतिनिधियों को बुलाकर ध्वनि प्रदूषण पर रोक लगाने की अपील की गई। वहीं कहा कि मानक के अनुसार की लोग ध्वनि संयंत्रों का उपयोग कर सकते हैं। न मानने वालों के खिलाफ वैधानिक कार्यवाही अमल में लायी जायेगी।

Related posts

पत्नी ही निकली पति की हत्यारिन ! प्रेमी संग मिलकर कर दी हत्या। देखिये रिपोर्ट…..

kaalasach

राष्ट्रीय युवा दिवस!…..एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने मनाई स्वामी विवेकानंद की जयंती!

kaalasach

श्री नानकमत्ता गुरुद्वारा साहिब में क्यों न लग सका मेला ! देखिये रिपोर्ट…..

kaalasach

देखिये…..कहाँ हुई युवती से बलात्कार की कोशिश, चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज, जांच शुरू।

kaalasach

देखिये…..एक मार्च को क्यों होगा किसान महापंचायत का आयोजन! जिसके बाद…..!

kaalasach

देखिये!…..जब अश्लील हरकत करते पकड़े गये चार मजनू # तो क्या हुआ…..!

kaalasach

Leave a Comment